510-L, Model Town Ludhiana – 141002 (India)

पित्ताशय या पित्त की थैली हटाने पर किस तरह के साइड इफेक्ट देखने को मिलते है ?

Categories
Gallbladder disease

पित्ताशय या पित्त की थैली हटाने पर किस तरह के साइड इफेक्ट देखने को मिलते है ?

पित्ताशय यकृत के नीचे स्थित एक छोटा अंग, एक सामान्य शल्य चिकित्सा प्रक्रिया है जिसे कोलेसिस्टेक्टोमी के रूप में जाना जाता है। इस प्रक्रिया की सिफारिश अक्सर तब की जाती है जब व्यक्ति पित्ताशय की समस्याओं से पीड़ित होते है, जैसे कि पित्ताशय की पथरी या पित्ताशय की बीमारी। हालाँकि सर्जरी आम तौर पर सुरक्षित और प्रभावी होती है, लेकिन इसके विभिन्न दुष्प्रभाव हो सकते है। तो इस ब्लॉग में, हम पित्ताशय हटाने के दुष्प्रभावों पर चर्चा करेंगे ; 

 

पित्ताशय की थैली हटाने के दुष्प्रभाव क्या है ?

 

दर्द और बेचैनी :

पित्ताशय की थैली हटाने के बाद, रोगियों को आमतौर पर दर्द और असुविधा का अनुभव होता है। यह दर्द आमतौर पर पेट क्षेत्र में केंद्रित होता है और कुछ दिनों से लेकर कई हफ्तों तक बना रह सकता है। यह सर्जिकल चीरों और प्रक्रिया के दौरान अन्य अंगों की पुनः स्थिति के परिणामस्वरूप होता है। अधिकांश रोगियों को निर्धारित दर्द निवारक दवा से राहत मिलती है।

पित्ताशय की थैली को हटाते वक़्त आपको दर्द या सूजन की समस्या का सामना करना पड़ सकता है और कई बार मूत्र संबंधी समस्या भी आपके सामने आ सकती है इसलिए इससे बचाव के लिए आपको लुधियाना में बेस्ट यूरोलॉजिस्ट का चयन करना चाहिए।

 

दस्त और आंत्र की आदतों में परिवर्तन :

सबसे आम दुष्प्रभावों में से एक दस्त या पतला मल है, जो बार-बार हो सकता है और इसे नियंत्रित करना मुश्किल हो सकता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि पित्ताशय यकृत द्वारा उत्पादित पित्त को संग्रहीत करता है, जो वसायुक्त खाद्य पदार्थों को पचाने में सहायता के लिए जारी किया जाता है। पित्ताशय हटाने के बाद, पित्त लगातार पाचन तंत्र में प्रवाहित होता है, कभी-कभी सिस्टम पर दबाव डालता है। समय के साथ, अधिकांश व्यक्ति इस परिवर्तन को अपना लेते है, लेकिन कुछ लोगों को आंत संबंधी अनियमितताओं का अनुभव हो सकता है।

 

सूजन और गैस :

सूजन और अत्यधिक गैस अन्य दुष्प्रभाव है जो पित्ताशय हटाने के बाद हो सकते है। पाचन प्रक्रिया में बदलाव से गैस का उत्पादन बढ़ सकता है और पेट भरा हुआ महसूस हो सकता है। कुछ रोगियों के लिए, यह एक असुविधाजनक और लगातार बनी रहने वाली समस्या हो सकती है, लेकिन आहार समायोजन से इन लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद मिल सकती है।

 

पाचन चुनौतियाँ :

पित्ताशय के भंडारण कार्य के नुकसान के कारण, वसायुक्त खाद्य पदार्थों को पचाना अधिक कठिन हो सकता है। इसके परिणामस्वरूप अपच, पेट ख़राब होना या उच्च वसा वाले भोजन को सहन करने में असमर्थता हो सकती है। संतृप्त वसा में कम और घुलनशील फाइबर में उच्च आहार कोलेसिस्टेक्टोमी के बाद के जीवन के इस पहलू को प्रबंधित करने में सहायता कर सकता है।

 

वजन में बदलाव :

कुछ व्यक्तियों को पित्ताशय हटाने के बाद वजन में बदलाव का अनुभव हो सकता है। वसा को पचाने में कठिनाइयों के कारण वजन बढ़ सकता है, जिससे अधिक खपत या कैलोरी अवशोषण कम हो सकता है। इसके विपरीत, कुछ लोगों का वजन कम हो सकता है क्योंकि वे पाचन संबंधी परेशानी के डर से वसायुक्त भोजन से बचते है।

 

खाद्य संवेदनशीलता :

कुछ खाद्य पदार्थ, विशेष रूप से उच्च वसा वाले खाद्य पदार्थ, उन व्यक्तियों में असुविधा या पाचन संकट पैदा कर सकते है, जिनके पित्ताशय हटा दिए गए हैं। ये खाद्य संवेदनशीलताएं हर व्यक्ति में अलग-अलग हो सकती है, और ट्रिगर खाद्य पदार्थों की पहचान करने में कुछ परीक्षण और त्रुटि हो सकती है।

 

दीर्घकालिक आहार समायोजन :

पाचन संबंधी समस्याओं को कम करने के लिए मरीजों को अक्सर दीर्घकालिक आहार समायोजन करने की आवश्यकता होती है। कम वसा और उच्च फाइबर वाला आहार, साथ में छोटे, बार-बार भोजन, सर्जरी के बाद के लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है। इसके अतिरिक्त, अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रहना और अत्यधिक कैफीन और शराब के सेवन से बचना फायदेमंद हो सकता है।

पित्त भाटा का खतरा :

कुछ मामलों में, पित्ताशय हटाने से पित्त भाटा हो सकता है, जहां पित्त गलत दिशा में वापस पेट में प्रवाहित होता है। इससे पेट की परत में जलन और सूजन हो सकती है। इस स्थिति को ठीक करने के लिए दवाओं या अतिरिक्त सर्जिकल प्रक्रियाओं की आवश्यकता हो सकती है।

 

मनोवैज्ञानिक प्रभाव :

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि कुछ व्यक्तियों को सर्जरी के बाद मनोवैज्ञानिक प्रभाव का अनुभव हो सकता है। किसी अंग का नष्ट होना कुछ लोगों के लिए भावनात्मक रूप से चुनौतीपूर्ण हो सकता है, जिससे चिंता या उदासी की भावना पैदा हो सकती है। पुनर्प्राप्ति प्रक्रिया के दौरान स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और प्रियजनों का समर्थन महत्वपूर्ण हो सकता है।

यदि आप पित्त की पथरी का इलाज करवा चुके है या पित्ताशय की थैली को निकलवाने के बारे में सोच रहे है तो लुधियाना में पित्ताशय की पथरी का इलाज जरूर करवाए।

 

सुझाव :

पित्ताशय की थैली को निकलवाने से पहले एक बार इसके नुक्सान के बारे में जानकारी हासिल करें। इसके अलावा इस सर्जरी को आप आरजी स्टोन यूरोलॉजी एवं लेप्रोस्कोपी हॉस्पिटल से भी करवा सकते है। 

 

निष्कर्ष :

पित्ताशय निकालना एक सामान्य और आम तौर पर सुरक्षित प्रक्रिया है, लेकिन इसके कई संभावित दुष्प्रभाव होते है। ये दुष्प्रभाव व्यक्ति-दर-व्यक्ति भिन्न हो सकते है, और कई व्यक्ति अपने पाचन तंत्र में परिवर्तनों को प्रबंधित करने और अनुकूलित करने के तरीके ढूंढते है। यदि आप पित्ताशय की थैली हटाने के बाद लगातार या गंभीर दुष्प्रभावों का अनुभव कर रहे है, तो आपके जीवन की गुणवत्ता में सुधार के लिए मार्गदर्शन और संभावित समाधान के लिए अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से परामर्श करना महत्वपूर्ण है।

Categories
Gallbladder disease Hindi Kidney Stones

पित्ताशय की पथरी की रोकथाम के लिए बेहतरीन योगासन कौन-से है !

योग, भारत से शुरू हुई एक सदियों पुरानी प्रथा है, जो अपने कई स्वास्थ्य लाभों के लिए प्रसिद्ध है। इसके कई फायदों में से, योग पित्ताशय की पथरी की रोकथाम में मदद कर सकता है। पित्ताशय की पथरी दर्दनाक हो सकती है और विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं को जन्म दे सकती है। विशिष्ट योग आसनों को अपनी दिनचर्या में शामिल करने से पित्ताशय को स्वस्थ बनाए रखने में मदद मिल सकती है। इस लेख में, हम पित्ताशय की पथरी की रोकथाम के लिए कुछ सर्वोत्तम योग आसनों पर चर्चा भी करेंगे ;

पित्ताशय की पथरी के लिए कौन-सा योगासन है बेहतरीन !

भुजंगासन (कोबरा मुद्रा) :

भुजंगासन पेट की मांसपेशियों को मजबूत करने और पाचन में सुधार के लिए एक बेहतरीन योग मुद्रा है। यह आसन पित्ताशय को उत्तेजित करता है और पित्त पथरी के निर्माण को रोकने में मदद कर सकता है।

धनुरासन (धनुष मुद्रा) :

धनुरासन एक शक्तिशाली आसन है जो पेट के क्षेत्र को संकुचित करता है, जिससे पित्ताशय की मालिश होती है। यह पित्ताशय की कार्यक्षमता को बढ़ा सकता है और पथरी बनने के खतरे को कम कर सकता है।

पवनमुक्तासन (हवा से राहत देने वाली मुद्रा) :

यह आसन पाचन संबंधी समस्याओं को दूर करने और पाचन तंत्र में गैस के संचय को रोकने के लिए उत्कृष्ट है। यह स्वस्थ पाचन को बढ़ावा देकर पित्त पथरी के खतरे को भी कम कर सकता है।

उष्ट्रासन (ऊंट मुद्रा) :

उष्ट्रासन में पीछे की ओर गहरा मोड़ शामिल होता है जो पेट के क्षेत्र को फैलाने में मदद करता है। यह पित्ताशय को उत्तेजित करता है और उसके कार्य में सुधार करता है, जिससे पित्त पथरी बनने की संभावना कम हो जाती है।

अर्ध मत्स्येन्द्रासन (मछलियों का आधा स्वामी मुद्रा) :

अर्ध मत्स्येन्द्रासन पित्ताशय सहित पेट के अंगों की मालिश करने में प्रभावी है। यह विषहरण में सहायता करता है और समग्र पाचन स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है।

विपरीत करणी (पैर ऊपर दीवार मुद्रा) :

यह आसन तनाव दूर करने और विश्राम को बढ़ावा देने में मदद करता है। तनाव को अक्सर पित्त पथरी के निर्माण से जोड़ा जाता है, और विपरीत करणी तनाव कम करने में मदद कर सकती है।

सर्वांगासन (कंधे का रुख करना) :

सर्वांगासन एक शक्तिशाली उलटा आसन है जो पेट क्षेत्र में रक्त परिसंचरण में सुधार करता है। यह पित्ताशय में पित्त के ठहराव को रोक सकता है, जिससे पित्त पथरी का खतरा कम हो जाता है।

शवासन (शव मुद्रा):

शवासन एक विश्राम मुद्रा है जो तनाव को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है, जो पित्त पथरी के लिए एक ज्ञात जोखिम कारक है। शवासन को अपनी दिनचर्या में शामिल करके, आप भावनात्मक कल्याण को बढ़ावा दे सकते है और पित्त पथरी बनने की संभावना को कम कर सकते है।

अर्ध हलासन (आधा हल आसन) :

अर्ध हलासन पेट के अंगों की मालिश करने में मदद करता है और पित्ताशय को उत्तेजित कर सकता है। यह पाचन में सुधार और पित्त पथरी को रोकने में भी सहायता करता है।

मत्स्यासन (मछली मुद्रा) :

  • मत्स्यासन एक और आसन है जिसमें पीछे की ओर झुकना होता है और पेट के क्षेत्र को फैलाना होता है। यह पित्ताशय को स्वस्थ बनाए रखने और पित्त पथरी को रोकने में प्रभावी हो सकता है।

अगर आप लुधियाना में पित्ताशय की पथरी का इलाज करवाना चाहते है, तो इसके लिए आपको उपरोक्त बातों का खास ध्यान रखना चाहिए।

पित्ताशय की पथरी के कारण क्या है ?

  • मोटापे की समस्या।
  • बहुत अधिक डाइटिंग करने से। 
  • डायबिटीज की समस्या। 
  • कमजोर पाचन तंत्र की समस्या का सामना करना। 
  • अधिक एस्ट्रोजन (गर्भावस्था या हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के कारण)।
  • कोलेस्ट्रोल का अधिक उत्पादन। 

पित्ताशय की पथरी के लक्षण क्या ?

  • ठंड के साथ तेज बुखार की समस्या। 
  • उल्टी या मितली की समस्या। 
  • पीलिया की समस्या। 
  • पेट या दाएं कंधे में तेज दर्द की समस्या का सामना करना। 
  • पेशाब के रंग का गहरा होना। 
  • मल का रंग मिट्टी की तरह हो जाना। 

अगर पेशाब संबंधी समस्या का आपको सामना करना पड़ रहा है, तो इससे बचाव के लिए आपको लुधियाना में बेस्ट यूरोलॉजिस्ट का चयन करना चाहिए।

सुझाव :

अगर आपको उपरोक्त योगासन से आराम न मिले तो इसके बेहतीन इलाज के लिए आपको आरजी स्टोन यूरोलॉजी और लेप्रोस्कोपी हॉस्पिटल का चयन करना चाहिए। 

निष्कर्ष :

  • हालांकि योग आसन पित्ताशय की पथरी को रोकने में फायदेमंद हो सकते है, लेकिन इनका नियमित और सही तरीके से अभ्यास करना आवश्यक है। इसके अतिरिक्त, संतुलित आहार बनाए रखना, हाइड्रेटेड रहना और स्वस्थ जीवन शैली जीना पित्ताशय के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। किसी भी नई व्यायाम दिनचर्या को शुरू करने से पहले हमेशा एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श लें, खासकर यदि आपको पित्ताशय की समस्याओं का इतिहास है।
  • स्वस्थ जीवन शैली के साथ-साथ इन योगासनों को अपने दैनिक आहार में शामिल करने से पित्ताशय की पथरी को रोकने में काफी मदद मिल सकती है। उचित पाचन को बढ़ावा देकर, तनाव को कम करके और पित्ताशय को उत्तेजित करके, योग आपके समग्र स्वास्थ्य और कल्याण को बनाए रखने में एक मूल्यवान उपकरण हो सकता है।
Categories
Gallbladder disease

Signs and Symptoms of Overactive Bladder Which You should not Ignore

Overactive Bladder

If you have a frequent and sudden tendency to urinate, you might have an overactive gallbladder. OAB makes you feel that your urge to pass urine is uncontrollable. There will be tendencies to pass urine many times in the entire day, which will cause unintentional urine loss (urinary continence) in you.

OAB will leave you embarrassed and will make you isolate yourself in your professional and social life. But you can get the specific cause of your OAB from the Best Urologist in Ludhiana.

You can control the symptoms of OAB with specific changes like diet intake, timed voiding, and pelvic floor muscle exercises. If these measures don’t work, you can then undergo Gallstones surgery in Ludhiana.

Symptoms of OAB

  • Sudden and uncontrollable urge to urinate.
  • Unintentional loss of urine after the urgent need to urinate(urinary continence).
  • Urinate consistently more than eight times in 24 hours.
  • Need to wake up at night to urinate more than two times.

Sometimes you experience unexpected frequent and nighttime urination, which leaves you as a butt of jokes.

If you have all these signs and symptoms, you must consult a doctor for better advice.

Conditions that contribute to an overactive bladder

  • Neurological disorders such as stroke and multiple sclerosis.
  • Diabetes.
  • Urinary Tract Infections cause the same symptoms as the overactive bladder.
  • Hormonal changes during menopause in women.
  • Tumors and bladder stones
  • Enlarged prostate.
  • Constipation. 

Involuntary Bladder Contraction

This condition happens when the muscles of the bladder start contracting on their own despite the volume of urine being low. This also leads to the symptoms mentioned below, which are:

  • Medications that cause excessive production of urine in your body. 
  • Excessive alcohol or caffeine intake.
  • Declining cognitive function due to aging, which makes it hard for your bladder to understand the signals from your brain.
  • Difficulty in walking, which could lead to bladder urgency if you can’t make it to the washroom quickly.
  • Incomplete bladder emptying, which leads to OAB, as you have little urine storage space left.

Complications due to an Overactive Bladder

If you are suffering from an overactive bladder, you might have certain complications which will disrupt your quality of life. These complications are:

  • Depression or Emotional Distress.
  • Anxiety
  • Disrupted sleep pattern.
  • Sexuality issues.

If you can get these issues treated in time, you may have the chance of getting rid of OAB.

Tips to Prevent Overactive Bladder

These are the tips you can follow to prevent an overactive bladder from disrupting your daily life:

  • Maintain a healthy weight.
  • Perform physical exercises on a daily basis.
  • Curb caffeine and alcohol intake.
  • Quit smoking.
  • Manage chronic conditions like diabetes, which is the main contributor to this disease.
  • Perform kegel exercises preferred for stronger pelvic muscles.

Overactive bladder disorder can bring a lot of humiliation to anyone. It even leads to many unwanted conditions. You can consult a doctor for its prevention and treatment. Simultaneously, you can even bring in some healthy changes to avoid this disease disrupting your daily life and making you the butt of jokes.

Categories
Gallbladder disease Gallstones Hindi

पित्त की थैली में इन्फेक्शन के क्या है कारण, लक्षण और इलाज ?

पित्त या पित्ताशय की थैली छोटे से आकार की होती है जोकि यकृत के नीचे पाई जाती है और इसका मुख्य कार्य यकृत द्वारा छोड़े गए पित्त को इकट्ठा करना है, पर सोचे अगर किसी कारणवश इसमें सूजन आ जाए तो कैसे हम इसकी पहचान करेंगे, और इसमें सूजन के कारण क्या हो सकते है साथ ही कैसे इसका इलाज करवा के हम इस समस्या से खुद का बचाव कर सकते है इसके बारे में हम आज के लेख में बात करेंगे, इसलिए पित्त की थैली में इन्फेक्शन के बारे में जानने के लिए आर्टिकल को अंत तक जरूर से पढ़े ;

पित्त की थैली में इन्फेक्शन के कारण क्या है ?

  • पित्त की नली का सिकुड़ना। 
  • पित्ताशय की थैली में ट्यूमर का होना। 
  • बिलुरुबिन और कैल्शियम साल्ट्स की ठोस जमावट को पित्ताशय की पथरी कहते हैं। यह पित्त की थैली में इन्फेक्शन का सबसे आम कारण है। 
  • ब्लड वेसल्स का नुकसान होना। 

लुधियाना में बेस्ट यूरोलॉजिस्ट की मदद से आप पित्ताशय में इन्फेक्शन की समस्या क्यों होती है के बारे में जान सकते हो।

क्या है पित्ताशय की थैली ?

  • पित्ताशय की थैली एक छोटे, नाशपाती के आकार का अंग है जो पेट के दाहिनी ओर यकृत (लिवर) के ठीक नीचे स्थित होती है। पित्ताशय की थैली पित्त को संग्रहीत करती है। पित्त पथरी रेत के दाने जितनी छोटी या गोल्फ की गेंद जितनी बड़ी हो सकती है।
  • पित्ताशय की थैली के वजन की बात करें तो वयस्कों में, पित्ताशय की थैली लगभग 7 से 10 सेंटीमीटर (2.8 से 3.9 इंच) लंबाई में और 4 सेंटीमीटर (1.6 इंच) व्यास में पूरी तरह से फैला हुआ होता है। 

पित्ताशय की थैली में इन्फेक्शन के क्या लक्षण है ?

  • बुखार की समस्या का सामना करना।
  • जी मिचलाना। 
  • पेट में दर्द । 
  • उल्टी का आना।
  • सूजन की समस्या।
  • आँखों में पीलेपन का आना।
  • मल का ढीला होना। 

यदि व्यक्ति द्वारा भोजन खाया जाता है तो ये समस्या ज्यादा बढ़ जाती है। इसके अलावा अगर ये समस्या ज्यादा बढ़ रही है तो इससे निजात पाने के लिए लुधियाना में पित्ताशय की पथरी की जाँच एक बार जरूर से करवाए।

पित्त की थैली में इन्फेक्शन का क्या इलाज है ?  

  • पित्ताशय की थैली के संक्रमण का इलाज दवा या शल्य प्रक्रिया के माध्यम से किया जा सकता है। इन्फेक्शन को दूर करने के लिए एंटीबायोटिक के साथ दर्द निवारक देते हैं। पथरी के कारण अगर संक्रमण है तो सर्जरी की जा सकती है। 
  • वही ERCP यानि (एंडोस्कोपिक रेट्रोग्रेड कोलेजनोपैंक्रेटोग्राफी) का उपयोग डॉक्टरों द्वारा अग्न्याशय और पित्त नलिकाओं में समस्याओं के निदान और उपचार के लिए किया जाता है। मतलब की ऐसे समझे कि यदि आपके डॉक्टर को अग्न्याशय या यकृत रोग, या पित्त नलिकाओं में समस्या का संदेह है, तो आप ईआरसीपी (ERCP) से गुजर सकते हैं।
  • इसके इलाज से पहले आपको व्रत रखना पड़ सकता है, क्युकि भोजन से आपकी पित्त की थैली सूज जाती है। 
  • अगर आपकी पित्त की थैली में इन्फेक्शन की समस्या है तो इसके इलाज ले लिए डॉक्टर आपको गॉलस्टोन सर्जरी करवाने की सलाह दे सकते है। और इसमें इलाज दवाइयों के माद्यम से किया जाता है। 

पित्त की थैली में इन्फेक्शन के लक्षणों को जानने के बाद इससे निजात पाने के लिए आरजी स्टोन यूरोलॉजी एन्ड लेप्रोस्कोपी हॉस्पिटल का चयन करें। 

निष्कर्ष :

पित्त की थैली में इन्फेक्शन की समस्या काफी खतरनाक है इसलिए समय रहते किसी अच्छे डॉक्टर का चयन करें इसके इलाज के लिए।

Telephone Icon
whatsup-icon